Breaking News

अध्यात्म

भगवान के अनुसार करें उन्हे नैवेद्य अर्पण, मनोकामना होगी पूरी

हिन्दू धर्म में पूजा-पाठ का विषेश महत्व है। मान्यता के अनुसार भगवान की कृपा पाने के लिए हर इंसान पूजा-पाठ व भगवान कि आराधना करता है। जिसमें हर छोटी-छोटी चीजों का बड़ा ही महत्व होता है। अगर आप पूरे विधि-विधान ...

Read More »

राशिफल: 16 अप्रैल 2018, सोमवार

मेष (Aries): आज का दिन आपके लिए शुभ है। परिजन तथा मित्रों के साथ समारोह में उपस्थित रह सकते हैं। नए कार्य का प्रारंभ करने के लिए उत्साह रहेगा। सेहत का ध्यान रखें, धनप्राप्ति का योग है। ads by adgebra वृष ...

Read More »

अक्षय तृतीया पर भूलकर भी ना करें ये 5 गलतियां वरना माता लक्ष्मी हो जाएंगी नाराज

अक्षय तृतीया को सबसे शुभ दिनों में से एक माना जाता है। इस बार 18 अप्रैल को यह पर्व मनाया जाएगा। इस त्योहार पर माता लक्ष्मी की कृपा पाने का सबसे अच्छा समय होता है। माता लक्ष्मी इस दिन अपने ...

Read More »

राशिफल 15 अप्रैल 2018: वृष राशि के लिए लाभप्रद दिन, आपके लिए कैसा…

मेष (Aries): आज के दिन धार्मिक और आध्यात्मिक प्रवृत्तियां विशेष रहेंगी। मन में ठोस निर्णय न ले पाने की दुविधा रहेगी। पैसे की लेन-देन या आर्थिक व्यवहार न करने की गणेशजी की सलाह है। शारीरिक और मानसिक बेचैनी का अनुभव करेंगे। ...

Read More »

क्या अस्त ग्रह फल भी देते हैं, जानें कैसे करें उन्हें बलशाली

मल्टीमीडिया डेस्क। आकाश मंडल में कोई भी ग्रह जब सूर्य से एक निश्चित दूरी के अंदर आ जाता है, तो सूर्य के तेज से वह ग्रह अपनी शक्ति खोने लगता है। इसे ही ग्रह का अस्त होना माना जाता है। जब कोई ग्रह अस्त हो जाता है, तो उसके फल देने की स्थिति में कमी आ जाती है। यानी यदि वह शुभ फल देने वाला है, तो पूर्ण शुभ फल नहीं दे पाता है। यदि अशुभ फल देने वाला है, तो उसके अशुभ फल देने में कमी आ जाती है। सूर्य के समीप आने पर छहों ग्रह अस्त हो जाते हैं, लेकिन राहु और केतु कभी अस्त नहीं होते हैं। इतने करीब होने पर होते हैं अस्त ज्योतिषाचार्यों के अनुसार, चंद्रमा सूर्य के दोनों ओर 12 डिग्री या इससे अधिक करीब आने पर अस्त माने जाते हैं। वहीं, सूर्य के दोनों ओर 11 डिग्री या इससे अधिक समीप आने पर गुरू अस्त माने जाते हैं। शुक्र, सूर्य के दोनों ओर 10 डिग्री या इससे अधिक समीप आने पर अस्त माने जाते हैं। वक्री शुक्र यदि सूर्य के दोनों ओर 8 डिग्री या इससे अधिक करीब हो, तो अस्त माना जाता है। सूर्य के दोनों ओर 14 डिग्री या इससे अधिक समीप आने पर बुध अस्त माने जाते हैं। वक्री बुध यदि सूर्य के दोनों ओर 12 डिग्री या इससे अधिक करीब हो, तो अस्त माने जाते हैं। सूर्य के दोनों ओर 15 डिग्री या इससे अधिक समीप आने पर शनि अस्त माने जाते हैं। अतिरिक्त बल देने की जरूरत अस्त ग्रहों सही फल दें, इसके लिए उन्हें अतिरिक्त बल देने की जरूरत होती है। कुंडली के आधार पर यह निर्णय किया जाता है कि अस्त ग्रह को अतिरिक्त बल कैसे प्रदान किया जा सकता है। यदि वह ग्रह शुभ फल देने वाला है, तो उसे अतिरिक्त बल प्रदान करना चाहिए। इसके लिए जातक को संबंधित ग्रह का रत्न धारण करवाया जाता है। हालांकि, यदि किसी अस्त ग्रह अशुभ फल देने वाला है या अकारक है, तो उसे अतिरिक्त बल नहीं देना चाहिए। इस स्थिति में संबंधित ग्रह का रत्न नहीं पहनाना चाहिए। इस स्थिति में उस ग्रह के मंत्र, बीज मंत्र या सामान्य पूजा से उसे ठीक करना चाहिए।

 आकाश मंडल में कोई भी ग्रह जब सूर्य से एक निश्चित दूरी के अंदर आ जाता है, तो सूर्य के तेज से वह ग्रह अपनी शक्ति खोने लगता है। इसे ही ग्रह का अस्त होना माना जाता है। जब कोई ...

Read More »

क्या अस्त ग्रह फल भी देते हैं, जानें कैसे करें उन्हें बलशाली

मल्टीमीडिया डेस्क। आकाश मंडल में कोई भी ग्रह जब सूर्य से एक निश्चित दूरी के अंदर आ जाता है, तो सूर्य के तेज से वह ग्रह अपनी शक्ति खोने लगता है। इसे ही ग्रह का अस्त होना माना जाता है। जब कोई ग्रह अस्त हो जाता है, तो उसके फल देने की स्थिति में कमी आ जाती है। यानी यदि वह शुभ फल देने वाला है, तो पूर्ण शुभ फल नहीं दे पाता है। यदि अशुभ फल देने वाला है, तो उसके अशुभ फल देने में कमी आ जाती है। सूर्य के समीप आने पर छहों ग्रह अस्त हो जाते हैं, लेकिन राहु और केतु कभी अस्त नहीं होते हैं। इतने करीब होने पर होते हैं अस्त ज्योतिषाचार्यों के अनुसार, चंद्रमा सूर्य के दोनों ओर 12 डिग्री या इससे अधिक करीब आने पर अस्त माने जाते हैं। वहीं, सूर्य के दोनों ओर 11 डिग्री या इससे अधिक समीप आने पर गुरू अस्त माने जाते हैं। शुक्र, सूर्य के दोनों ओर 10 डिग्री या इससे अधिक समीप आने पर अस्त माने जाते हैं। वक्री शुक्र यदि सूर्य के दोनों ओर 8 डिग्री या इससे अधिक करीब हो, तो अस्त माना जाता है। सूर्य के दोनों ओर 14 डिग्री या इससे अधिक समीप आने पर बुध अस्त माने जाते हैं। वक्री बुध यदि सूर्य के दोनों ओर 12 डिग्री या इससे अधिक करीब हो, तो अस्त माने जाते हैं। सूर्य के दोनों ओर 15 डिग्री या इससे अधिक समीप आने पर शनि अस्त माने जाते हैं। अतिरिक्त बल देने की जरूरत अस्त ग्रहों सही फल दें, इसके लिए उन्हें अतिरिक्त बल देने की जरूरत होती है। कुंडली के आधार पर यह निर्णय किया जाता है कि अस्त ग्रह को अतिरिक्त बल कैसे प्रदान किया जा सकता है। यदि वह ग्रह शुभ फल देने वाला है, तो उसे अतिरिक्त बल प्रदान करना चाहिए। इसके लिए जातक को संबंधित ग्रह का रत्न धारण करवाया जाता है। हालांकि, यदि किसी अस्त ग्रह अशुभ फल देने वाला है या अकारक है, तो उसे अतिरिक्त बल नहीं देना चाहिए। इस स्थिति में संबंधित ग्रह का रत्न नहीं पहनाना चाहिए। इस स्थिति में उस ग्रह के मंत्र, बीज मंत्र या सामान्य पूजा से उसे ठीक करना चाहिए।

 आकाश मंडल में कोई भी ग्रह जब सूर्य से एक निश्चित दूरी के अंदर आ जाता है, तो सूर्य के तेज से वह ग्रह अपनी शक्ति खोने लगता है। इसे ही ग्रह का अस्त होना माना जाता है। जब कोई ...

Read More »

अक्षय तृतीया से फिर बजेंगी शहनाई, दिसंबर तक 41 विवाह मुहूर्त

भोपाल। 14 मार्च को खरमास लगने के साथ ही शादियों समेत अन्य शुभ कार्यों पर लगा विराम 14 अप्रैल को खत्म होने जा रहा है। इसके बाद 18 अप्रैल से सर्वार्थ सिद्धि योग में आ रही अक्षय तृतीया के अबूझ मुहूर्त से एक बार फिर शहनाइयां बजना शुरू होंगी। 14 अप्रैल के अगले तीन दिन तक विवाह के श्रेष्ठ मुहूर्त नहीं हैं, इसलिए विवाह कार्य 18 अप्रैल से ही शुरू हो रहे हैं। गौरतलब है कि 14 अप्रैल तक मीन संक्रांति का खरमास होने से शादियों एवं अन्य शुभ कार्य के लिए श्रेष्ठ मुहूर्त नहीं मना जाता है। अप्रैल से जुलाई तक इस बार विभिन्न तारीखों में शादी के लिए कई श्रेष्ठ मुहूर्त आएंगे। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार 18 अप्रैल को अक्षय तृतीया से पहले एक भी श्रेष्ठ मुहूर्त नहीं है। पंडित रामजीवन दुबे के मुताबिक अक्षय तृतीया भी खास है, क्योंकि इस दिन सर्वार्थ सिद्धि योग सुबह 6.06 से रात 8.10 बजे तक रहेगा। इसमें शादियां ही नहीं बाजार से खरीदारी भी शुभ रहेगी। सूर्य-चंद्रमा का उच्च राशि होना भी शुभता का प्रतीक है। ज्योतिषाचार्यों के मुताबिक इस साल अप्रैल से दिसंबर तक कुल 41 विवाह मुहूर्त ही बन रहे हैं। 16 मई से 13 जून तक फिर लगेगा विवाहों पर विराम 16 मई से 13 जून तक अधिकमास में शादियों पर एक बार फिर विराम लग जाएगा। अगस्त, सितंबर, अक्टूबर से लेकर 18 नवंबर तक शादियां बंद रहेंगी। देव उठनी एकादशी 19 नवंबर को भी शादियों का मुहूर्त नहीं रहेगा। नवंबर माह में शुक्र मार्गी होकर पुनः अस्त हो जाएगा। 21 जुलाई भड़ली नवमी एवं 23 जुलाई को देव शयनी एकादशी को शादियां नहीं होंगी। इन तारीखों में गूंजेगी शहनाई अप्रैल- 18, 19, 20, 24, 25, 26, 27, 28, 29, 30, 18 अप्रैल अक्षय तृतीया को अबूझ मुहूर्त है। - मई- 1, 2, 3, 4, 5, 6, 11, 12, 13 (16 मई से 13 जून तक अधिमास में शादियां बंद रहेंगी) - जून - 14, 18, 20, 21, 23, 25, 27, 28, 29, 30 विवाह मुहूर्त। - जुलाई - 4, 5, 6, 9, 10, 11, 15, 16 (21 भड़ली नवमी एवं 23 जुलाई से देवशयनी एकादशी) - नवंबर- शादियां नहीं होंगी - दिसंबर-8, 10, 11, 15 विवाह मुहूर्त। - अबूझ मुहूर्त में होंगे सैंकड़ों विवाह 18 अप्रैल को अक्षय तृतीया व अबूझ मुहूर्त पर शहर में विभिन्ना समाजों द्वारा सामूहिक विवाह सम्मेलन आयोजित किए जाएंगे। इनमें सैंकड़ों जोड़ों का विवाह संपन्ना होगा। एयरपोर्ट रोड स्थित आसाराम बापू आश्रम में ब्राह्मण समाज समिति द्वारा सर्व ब्राह्मण समाज का विवाह सम्मेलन आयोजित किया जाएगा, जिसमें 51 जोड़ों का विवाह होगा। विवाह सम्मेलन के अध्यक्ष गौरी शंकर काका व रमेश विरथरिया होंगे। पंडित जगदीश शर्मा ने बताया कि अबूझ मुहूर्त में शहर में सैंकड़ों शादियां होने जा रही हैं, जिसके कारण विवाह संपन्ना कराने वाले वैदिक ब्राह्मणों को अन्य जिलों से आमंत्रित किया जा रहा है। कोलार रोड स्थित पाहाड़ा वाली माता पर भी विवाह सम्मेलन आयोजित किया जाएगा। इसके साथ ही श्यामला हिल्स स्थित टैगोर छात्रावास खेल मैदान में भी सामूहिक विवाह सम्मेलन होगा। उमाशंकर गुप्ता के संरक्षण व नया भोपाल क्षेत्र जनकल्याण समिति के तत्वावधान में यह सम्मेलन होगा, जिसमें 51 सर्वजातीय जोड़ों का विवाह कराया जाएगा। विवाह सम्मेलन संयोजक शैलेन्द्र निगम ने बताया कि सम्मेलन से एक दिन पूर्व सभी कन्याओं की हल्दी, तेल, महंदी रस्म पूरी की जाएगी व महिला संगीत का आयोजन भी किया जाएगा। 18 अप्रैल सुबह 10 बजे सभी 51 दूल्हे सजकर घोड़ी पर सवार होंगे। जो पालीटेक्निक चौराहा स्थित गांधी भवन बारात लेकर सम्मेलन स्थल पर पहुंचेंगे। इसके अलावा रातीबड़, करोंद सहित कई कई समाजों के विवाह सम्मेलन अबूझ मुहूर्त में आयोजित किए जाएंगे।

 14 मार्च को खरमास लगने के साथ ही शादियों समेत अन्य शुभ कार्यों पर लगा विराम 14 अप्रैल को खत्म होने जा रहा है। इसके बाद 18 अप्रैल से सर्वार्थ सिद्धि योग में आ रही अक्षय तृतीया के अबूझ मुहूर्त ...

Read More »

जानें कैसे फल देते हैं कुंडली में अस्त होने पर ग्रह

मल्टीमीडिया डेस्क। आकाश मंडल में कोई भी ग्रह जब सूर्य से एक निश्चित दूरी के अंदर आ जाता है, तो सूर्य के तेज से वह ग्रह अपनी शक्ति खोने लगता है। इसे ही ग्रह का अस्त होना माना जाता है। जब कोई ग्रह अस्त हो जाता है, तो उसके फल देने की स्थिति में कमी आ जाती है। यानी यदि वह शुभ फल देने वाला है, तो पूर्ण शुभ फल नहीं दे पाता है। यदि अशुभ फल देने वाला है, तो उसके अशुभ फल देने में कमी आ जाती है। सूर्य के समीप आने पर छहों ग्रह अस्त हो जाते हैं, लेकिन राहु और केतु कभी अस्त नहीं होते हैं। जानें कैसे फल देते हैं अस्त ग्रह... जानें कौन सा ग्रह देता है कैसे फल चन्द्र ग्रह- जब चंद्रमा अस्त होता है, तो तो व्यक्ति के जीवन में अशांति बनी रहती है। मां से संबंध खराब हो जाते हैं, मां का स्वास्थ ठीक नहीं रहता। यहि अस्त चन्द्रा अष्टम भाव या अष्टमेश के साथ हो, तो व्यक्ति को काफी मानसिक त्रास होता है। एनीमिया, फेफड़ों के रोग, मानसिक तनाव, डिप्रेशन और अस्थमा जैसे रोग हो सकते हैं। मंगल ग्रह- मंगल साहस और पराक्रम का कारक है। इसके अस्त होने पर साहस में कमी, क्रोध में वृद्धि, छोटे भाईयों से तनाव, भूमि विवाद, नसों में दर्द, दुर्घटना, कोर्ट कचेहरी के चक्कर, पत्नी को शारीरिक कष्ट जैसी परेशानियां होती हैं। यदि मंगल छठवें भाव में पापी ग्रहों से साथ हो या दृष्टि संबंध बना रहा हो तो दुर्घटना और बीमारियों की आशंका होती है। छठे भाव से मंगल का संबंध व्यक्ति को कर्ज में डाल देता है। 12वें भाव में अस्त मंगल व्यक्ति को नशे का लती बना देता है। बुध ग्रह- व्यापार और वाणी का कारक बुध यदि अस्त हो, तो बुद्धि सही से काम नहीं करती। वाणी खराब हो जाती है। जातक में विश्वास की कमी, शरीर में ऐंठन, श्वास, चर्म रोग और गले आदि के रोग हो जाते है। 12वें भाव के स्वामी के साथ अस्त बुध संबंध बनाने पर नशे का लती बना देता है। गुरु ग्रह- देवगुरु बृहस्पति वैसे तो शुभ ग्रह हैं। मगर, इनके अस्त हो जाने पर गुरु से मिलने वाले शुभ प्रभाव कम हो जाते हैं। गुरू के अस्त होने से सन्तान उत्पन्न में बाधा आती है, बुर्जुगों को कष्ट होगा, शिक्षा में रुकावटें आती हैं और व्यक्ति नास्तिक हो जाता है। बृहस्पति की अन्तर्दशा में अस्त गुरु लीवर का रोग, टाइफाइड ज्वर, मधुमेह, साइनस की समस्या, कोर्ट कचेहरी, शिक्षकों से मतभेद, पढ़ाई में अरुचि जैसी समस्या देता है। शुक्र ग्रह- भोग-विलास और ऐश्वर्य का कारक शुक्र अस्त होने पर विवाह में समस्या, महिलाओं को गर्भाशय के रोग, नेत्र रोग, किडनी रोग, गुप्त रोग देता है। यह चरित्र को बुरी तरह प्रभावित करता है। राहु-केतु से संबंध होने पर मान-सम्मान कम कर देता है। अस्त शुक्र छठवें भाव के स्वामी के साथ संबंध बनाए, तो किडनी, मू़त्राशय व यौन अंगों के विकार देता है। शनि ग्रह- न्याय के देवता माने जाने वाले शनि कर्म प्रधान ग्रह हैं। इनके अस्त होने पर नौकरी या व्यापार में परेशानी, वरिष्ठ अधिकारियों से अनबन, सामाजिक प्रतिष्ठा में कमी, नशीले पदार्थों की लत लग जाती है। कमर दर्द, पैरों में दर्द, स्नायु तंत्र के रोग हो जाते हैं। अस्त शनि अगर का छठवें भाव के स्वामी के साथ संबंध रीढ़ की हड्डी में दर्द देता है।

मल्टीमीडिया डेस्क। आकाश मंडल में कोई भी ग्रह जब सूर्य से एक निश्चित दूरी के अंदर आ जाता है, तो सूर्य के तेज से वह ग्रह अपनी शक्ति खोने लगता है। इसे ही ग्रह का अस्त होना माना जाता है। जब ...

Read More »

राशिफल 11 अप्रैल: परिवार में शुभ कार्यों की प्लानिंग बनेगी

जानिए 11 अप्रैल 2018, बुधवार का राशिफल.... ARIES (21 मार्च – 19 अप्रैल): काम में देरी से परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। प्रेमी-प्रेमिका के मध्य मनमुटाव हो सकता है। माता का स्वास्थ्य बिगड़ सकता है। आत्मविश्वास भरपूर रहेगा। अधिकारी प्रसन्न रहेंगे। TAURUS (20 अप्रैल – 20 मई): कामकाज में विस्तार की योजना कार्यरूप में परिणित होगी। व्यापार में सच्चा भागीदार मिल सकता है। घर परिवार में प्रेम सौहार्द्र बना रहेगा। पति-पत्नी के बीच प्रेम पूर्ण व्यवहार रहेगा। सेहत अच्छी रहेगी। GEMINI (21 मई – 20 जून): कार्यक्षेत्र में मन नहीं लगेगा। सेहत सामान्य रहेगी परंतु पानी का सेवन अधिक करना लाभकारी रहेगा। प्रापर्टी के लिए अच्छा समय है। आमदनी बढ़ेगी व अटके काम पूरे होंगे। ईश्वर के प्रति आस्था बढ़ेगी। CANCER (21 जून – 22 जुलाई): किसी गलतफहमी का शिकार हो सकते हैं। वाणी वर संयम रखना आवश्यक है। वाहन चलते रास्ते धोखा दे सकता है। जमीन जायदाद की खरीदी के कार्य संपन्न होंगे। पत्नी की सलाह लाभदायक रहेगी। LEO (23 जुलाई – 22 अगस्त): दाम्पत्य जीवन में सुखद माहौल बना रहेगा। व्यापार की गति सामान्य रहेगी। धर्म कर्म के प्रति झुकाव बढ़ेगा। सेहत संबंधी कोई तकलीफ हो सकती है। मित्रों का सहयोग व सलाह काम आएगी। VIRGO (23 अगस्त– 22 सितंबर): धार्मिक समारोह में भाग ले सकते हैं। रोजमर्रा के कामों में व्यस्तता रहेगी। जरूरतों की पूर्ति के लिए कर्ज लेना पड़ सकता है। किसी अप्रिय सूचना से तनाव बढ़ सकता है। वाद-विवाद से बचे। LIBRA (23 सितंबर– 22 अक्टूबर): परिवार के लोगों का सहयोग मिलेगा जिससे सक्रियता बढ़ेगी। प्रॉपर्टी के लिहाज से कोई भी यात्रा टालना ठीक नहीं है। दाम्पत्य जीवन में प्रेम की मधुरता रहेगी। संतान की कोई समस्या परेशान कर सकती है। SCORPIO (23 अक्टूबर – 21 नवंबर): धैर्यपूर्वक कार्य करेंगे। घर व दफ्तर की जिम्‍मेदारियों को बखूबी अंजाम देंगे। आप उच्च लक्ष्यों को प्राप्त करने की कोशिश करेंगे। शादी पार्टी में जाने के अवसर मिलेंगे। SAGITTARIUS (22 नवंबर– 21 दिसंबर): व्यवसाय को आगे बढ़ाने के लिए कूटनीति का सहारा ले सकते हैं। पत्नी, बच्चों की फरमाइश पूरी करेंगे। महत्वपूर्ण संपर्कों का लाभ मिलेगा। मित्रों के साथ घूमने जाने का मन बनेगा। CAPRICORN (22 दिसंबर – 19 जनवरी): परिवार में मांगलिक व शुभ कार्य की रूपरेखा बन सकती है। नौकरी में नया काम व तरक्की के अवसर मिलेंगे। आर्थिक मामलों में की गई पहल का लाभ मिलेगा। नया वाहन खरीद सकते हैं। मन प्रसन्ना रहेगा। AQUARIUS (20 जनवरी – 18 फरवरी): नए वाहन या भूमि क्रय कर सकते हैं। विद्यार्थियों को अध्ययन के अच्छे परिणाम प्राप्त होंगे। वाहन सावधानीपूर्वक चलाएं। नौकरी में सहयोगी कार्य में बाधा डाल सकते हैं। निवेश से लाभ। PISCES (19 फरवरी – 20 मार्च): परिवार में किसी के विवाह का आयोजन हो सकता है। कार्ट-कचहरी के लंबित पड़े कार्यों में सफलता मिलेगी। विरोधी सक्रिय होंगे। सेहत के प्रति लापरवाह ना बरतें। यात्रा शुभ फल दायक रहेगी।

जानिए 11 अप्रैल 2018, बुधवार का राशिफल…. ARIES (21 मार्च – 19 अप्रैल): काम में देरी से परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। प्रेमी-प्रेमिका के मध्य मनमुटाव हो सकता है। माता का स्वास्थ्य बिगड़ सकता है। आत्मविश्वास भरपूर रहेगा। ...

Read More »

शनि होंगे वक्री, बढ़ेंगी दुर्घटनाएं, राशियों पर होगा ये असर

ग्वालियर। 18 अप्रैल अक्षय तृतीय से शनि धनु राशि में रहते हुए अपनी वक्रगति से चलना प्रांरभ कर देंगे। वहीं 18 अप्रैल को ही परशुराम जयंती भी है। शनि का यह वक्री काल 6 सितम्बर तक रहेगा। ज्योतिषाचार्य पं. सतीश सोनी के अनुसार शनि का वक्री काल 18 अप्रैल को सुबह 7.17 मिनट से प्रांरभ हो जाएगा। गुरु और शनि के वक्रगति होने से एवं शनि मंगल का शुक्र के साथ षड़ाष्टक योग से अपराधों में वृद्वि और दुर्घटनाओं में इजाफा होगा। साथ ही महंगाई भी बढ़ने की भी संभावना है। इन राशियों पर रहेगा ये प्रभाव - मेष : न्याय क्षेत्र में लाभ - वृषभ : कष्टों से सामना - मिथुन : व्यापार से लाभ - कर्क : शत्रु होंगे परास्त - सिंह : संतान से कष्ट - कन्या : पारिवारिक कलेश - तुला : स्थान परिवर्तन - वृश्चिक : नया समाचार मिलेगा। - धनु : चोट का भय रहेगा। - मकर : धन की हानि - कुंभ : धन लाभ - मीन : उच्च पद की प्राप्ति यह करें उपाय शनि देव को प्रसन्न और शांत रखने के लिए दशरथ कृत शनि स्त्रोत का पाठ करें। हनुमान जी को चोला चढ़ाएं। सरसों के तेल का दान करें।

 18 अप्रैल अक्षय तृतीय से शनि धनु राशि में रहते हुए अपनी वक्रगति से चलना प्रांरभ कर देंगे। वहीं 18 अप्रैल को ही परशुराम जयंती भी है। शनि का यह वक्री काल 6 सितम्बर तक रहेगा। ज्योतिषाचार्य पं. सतीश सोनी ...

Read More »