Breaking News

70 प्रतिशत से अधिक भारतीय मांओं को ब्रेस्टफीड लगता है चुनौती भरा अनुभव : सर्वे

मॉम्सप्रेसो और मेडेला द्वारा किए गए ताजा सर्वेक्षण के अनुसार, 70 प्रतिशत भारतीय मांओं को स्तनपान एक चुनौतीपूर्ण अनुभव लगता है। हाल ही में हुए एक सर्वे के निष्कर्षों के अनुसार, 70 प्रतिशत से अधिक भारतीय मांओं को लगता है कि स्तनपान एक चुनौतीपूर्ण अनुभव है। दिलचस्प बात यह है कि 78 प्रतिशत मांओं ने अपने बच्चों को एक वर्ष या उससे अधिक समय तक स्तनपान कराया है। निरंतर स्तनपान कराने के लिए मुख्य उद्देश्यों में इसकी डिमांडिंग प्रवृत्ति के बावजूद कुछ थे, बच्चों के लिए स्तनपान के कारण स्वास्थ्य लाभ (98.6%), माता और शिशु के बीच नजदीकी संबंध (73.4%), स्तनपान कराने वाली मां के स्वास्थ्य लाभ (57.5%) और स्तनपान के कारण वजन कम होना (39.7%) शामिल था।

यह सर्वेक्षण महिलाओं के लिए भारत के सबसे बड़े यूजर जेनेरेटेड कंटेंट प्लेटफॉर्म मॉम्सप्रेसो और 50 से अधिक वर्षों से मांओं के दूध के बारे में शोधकर्ताओं के साथ काम करने वाली मेडेला के सहयोग से आयोजित किया गया था। मेडेला स्तनपान के क्षेत्र में विशेषज्ञ हैं। इनके पास मांओं से लेकर शिशुओं के लिए हर तरह के उत्पाद (स्तन पंप, स्तन देखभाल और भोजन सॉल्यूशन तक के उत्पाद) हैं। इस सर्वेक्षण में 510 भारतीय मांओं को शामिल किया गया। इस सर्वेक्षण में स्तनपान कराने के दौरान मांओं के सामने आने वाली चुनौतियों के बारे में उनसे बात की गई और सलाह ली गई। इस अध्ययन का नाम “भारतीय माताओं के लिए स्तनपान चुनौतियां” था। इस सर्वेक्षण का उद्देश्य इन चुनौतियों के बारे में मुख्यधारा में बातचीत करना और इनका हल खोजना है।

इसके अलावा, अध्ययन ने भारतीय माताओं की स्तनपान की अवधि में सबसे बड़ी बाधाओं को प्रकट करने की मांग की। प्रमुख चुनौतियों को चिकित्सा समस्याओं, व्यवहारिक संक्रमण, कार्यस्थल चुनौतियों, यात्रा करते समय या सार्वजनिक स्थानों पर स्तनपान और घर पर समर्थन आदि श्रेणियों में विभाजित किया गया था। भारतीय माताओं के सामने आने वाली मुख्य छह चुनौतियों के बारे में इस सर्वे में बात की गई थी, जैसे शुरुआती दिनों में समस्याएं जैसे चटके निप्पल, दूध न आने की समस्या, फूले स्तन (34.7%), बीच रात में जागने से थकावट, बहुत ज्यादा फीडिंग सेशन और लंबे फीडिंग सेशन (31.8%), बच्चे का काटना (26.61%), दूध आपूर्ति की समस्या (22.7%), सार्वजनिक स्थानों पर स्तनपान (17.81%) और आंशिक अवसाद (17.42%) जैसी समस्याएं शामिल थीं।

38 प्रतिशत माताओं का कहना है कि बच्चे के जन्म के शुरुआती दिन, उनके स्तनपान के सफर का सबसे चुनौतीपूर्ण समय था। अंत में, सर्वेक्षण ने प्रमाणित किया कि परिवार से समर्थन सफल स्तनपान यात्रा में सबसे ज्यादा जरूरी है। सौभाग्य से, 64% माताओं को यह आवश्यक पारिवारिक समर्थन पर्याप्त रूप से हासिल हुआ, इसके अतिरिक्त, 37 % मांओं ने आगे बताया कि उन्हें अपने जीवनसाथी से समर्थन हासिल हुआ, 24% मांओं ने स्तनपान के लिए इंटरनेट की मदद ली और 19.9 % ने चिकित्सा सलाह मांगी। अपने परिवारों और जीवनसाथी के पर्याप्त साथ के बावजूद 30 % माताओं के लिए स्तनपान के समय परिवार की मांग को पूरा करना और काम के बीच संतुलन स्थापित करना एक चुनौती ही रही।

यह सर्वेक्षण यह बताने के लिए महत्वपूर्ण था कि बाहरी कारक स्तनपान कराने वाली मांओं पर गहरा असर डाल सकते हैं और उन्हें एक सकारात्मक, सहायक माहौल प्रदान करके उन्हें एक ऐसी सहायता दी जा सकती है, जिससे वे अपने शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के साथ समझौता किए बगैर अपने बच्चों को उचित पोषण प्रदान कर सकें।

loading...
loading...