Breaking News

0.01 ग्राम मात्रा इंसान से जोम्बी बनाने के लिए काफी है

नशे की हालत में एक दिन फ्लोरिडा में रहने वाले ऑस्टिन हरौफ ने अपने पड़ोसी का चेहरा पूरी तरह जानवरों की तरह चबा लिया, देखने वाले लोगो ने आशंका जताई कि, ऑस्टिन के शरीर में किसी भूत-प्रेत ने घर कर लिया है. अफ्रीका में रहने वाले लेरॉय स्ट्रोथर्स एक दिन अचानक नग्न अवस्था में अपने घर की छत पर चढ़ गए और एक हाथ से बंदूक को हवा में लहराने लगे, लोगों को लगा की लेरॉय की मानसिक हालात ठीक नहीं है. ऐसे अन्य मामलो में इंसान कभी खुद का सर जोर-जोर से दीवार पर पटकता है, तो कभी खुद के शरीर को दांतों से खाने लगता है. मेडिकल रिपोर्ट के बाद चला कि इन सबके के शरीर में एक तरह का ड्रग उपलब्ध था, जो इंसान को हैवान बनाने के लिए काफी है.

शरीर में पाएं जाने वाला ड्रग है फ्लैक्का जिसे जोम्बी ड्रग भी कहते है, शरीर में फ्लैक्का की सिर्फ 0.01 ग्राम मात्रा आपको हैवान बनाने के लिए काफी है. फ्लैक्का के सेवन करने के बाद इसका जब असर होता है तब इंसान के शरीर का तापमान धीरे-धीरे बढ़ने लगता है, कंधे झुंकने लगते है, दिमाग काबू से बाहर हो जाता है, साथ ही ऐसा महसूस होता है जैसे आपके अंदर मौजूद इंसानी ताकत, किसी सुपर नेचुरल पावर में तब्दील हो गई है. और आप किसी जोम्बी की तरह रियेक्ट करने लगते है.

आपको बता दें, फ्लैक्का का चलन कई अफ्रीकन और यूरोपियन देशों में धड़ल्ले से हो रहा है, जिसका कारण है सस्ते में अवेलेबल होना, साथ ही इसकी कम मात्रा आपको नशीला करने के लिए काफी है. बाजार में फ्लैक्का एक कैप्सूल के रूप में मिलता है. खबरों के मुताबिक फ्लैक्का ने भारत में भी अपने पांव पसारने शुरू कर दिए है. मुम्बई, गोआ, बेंगलुरु और हैदराबाद में इसके कई मामले सामने आए है लेकिन फिर भी देश में फ्लैक्का की कोई सप्लाई देखी नहीं गई है. अपनी जड़े फैलाने से पहले नारकोटिक्स विभाग को इस मामले को संज्ञान में लेकर कड़े से कड़े कदम उठाने चाहिए ताकि देश का युवां इस तरह के नशीले पदार्थ के सेवन से दूर रहे.

loading...
loading...