Breaking News

नोटबंदी से घटी तिरुपति बालाजी की ‘आय’

नई दिल्ली: देश के सबसे अमीर मंदिरों में एक तिरुपति बालाजी पर भी नोटबंदी का असर देखने को मिल रहा है। मंदिर की आय में भारी कमी आई है। इस कमी को पूरा करने के लिए तिरुमला तिरुपति देवस्थानम ट्रस्ट ने भक्तों को दी जाने वाली प्रसाद सहित दूसरी सुविधाओं का चार्ज बढ़ाने का प्रस्ताव सरकार के पास भेजा। हालांकि मुख्यमंत्री ने चंद्रबाबू नायडू ने इस प्रस्ताव को अस्वीकार कर दिया।

नोटबंदी से घटी तिरुपति बालाजी की ‘आय’

– ट्रस्ट से जुड़े अफसरों के मुताबिक, नोटबंदी से पहले तिरुमाला तिरुपति देवस्थानम ट्रस्ट को वाली आय 5 करोड़ रुपये प्रतिदिन थी। इसमें बैंक डिपॉजिट्स भी शामिल हैं। नोटबंदी के बाद से इस आय में प्रतिदिन 1 करोड़ और कभी इससे ज्यादा की भी कमी बनी हुई है।

– तिरुमाला ट्रस्ट के चेयरमैन चाडलवडा कृष्णमूर्ति के अनुसार, हम भक्तों पर अतिरिक्त भार नहीं डालना चाहते। फिर भी हम मंदिर दर्शन के लिए जारी किए जाने वाले टिकिट में मामूली वृद्धि करने पर विचार कर रहे हैं। इसके लिए राज्य सरकार की सहमति जरूरी है।

– मंदिर दर्शन के लिए टिकिट्स के रेट 50 रुपये से 5 हजार रुपये तक हैं। इनमें से ज्यादातर श्रद्धालु स्पेशल दर्शन के लिए 300 रुपये का टिकिट लेना पसंद करते हैं। हर रोज तकरीबन 2 हजार लोग 500 रुपये के टिकिट से वीआईपी दर्शन करते हैं। तिरुपति ट्रस्ट टिकिट रेट्स में 5 से 10 रुपये की वृद्धि करना चाहता है। ट्रस्ट का मानना है कि इस तरीके से आय में हुई कमी की भरपाई की जा सकेगी। गौरतलब है कि कुछ समय पूर्व भी ट्रस्ट की तरफ से ऐसा प्रपोजल राज्य सरकार को भेजा गया था। जिसे मुख्यमंत्री एन. चंद्रबाबू नायडू ने अस्वीकार कर दिया था।

loading...
loading...