Breaking News

नवजोत सिंह सिद्धू के बयान के बाद पोस्टर वॉर, ‘पंजाब का कैप्टन हमारा कैप्टन’

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह (Amarinder Singh) पर बयान देने के बाद पंजाब सरकार (Punjab Government) में मंत्री और पूर्व क्रिकेटर नवजोत सिंह सिद्धू(Navjot singh sidhu) के खिलाफ विरोध तेज हो गया है। मुख्यमंत्री पर तंज कसने के बाद नवजोत अपने ही मंत्रियों के निशान पर आ गए हैं। बीते दिनों न मंत्रियों – ग्रामीण विकास एवं पंचायत मंत्री तृप्त राजिंदर सिंह बाजवा, राजस्व एवं पुनर्वास मंत्री सुखविंदर सिंह सरकारिया और खेल मंत्री राणा गुरमीत सिंह सोढ़ी ने नवजोत का इस्तीफा मांगा था। अब लुधियाना से कांग्रेस सांसद रवनीत सिंह बिट्टू ने नवजोत से माफी मांगने के लिए कहा है।

न्यूज एजेंसी एनआई के ट्वीट के मुताबिक, बिट्टू ने कहा, लुधियाना में हर जगह ये पोस्टर लगे हैं जिनपर लिखा है ‘पंजाब का कैप्टन हमारा कैप्टन है’। ये पंजाब की जनता की भावना है। नवजोत को अपने बयान पर माफी मांगनी चाहिए। अगर वो मानते हैं कि अमरिंदर उनके पिता के समान हैं तो माफी मांगने हिचकिचा क्यों रहे हैं। पंजाब में जो पोस्टर लगे हुए हैं उसमें मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह की तस्वीर बीच में नजर आ रही है। उनके एक साइड में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की तस्वीर लगी है और दूसरी तरफ सोनिया गांधी की।

सिद्दू ने अमरिंदर सिंह के बारे में क्या कहा था?

सिद्धू ने हैदराबाद में अमरिंदर का उस वक्त मजाक उड़ाया था जब पत्रकारों ने उनसे करतारपुर गलियारे के शिलान्यास समारोह में शिरकत को लेकर हुई उनकी पाकिस्तान यात्रा के बारे में पूछा। सिद्धू ने कहा था, राहुल गांधी मेरे कैप्टन हैं। उन्होंने मुझे पाकिस्तान भेजा। राहुल गांधी कैप्टन (अमरिंदर) के भी कैप्टन हैं। नवजोत के इस बयान के बाद से ही पंजाब की राजनीति में हलचल पैदा हो गई।

बयान पर दी थी सफाई 

विरोध बढ़ता देख सिद्धू ने अपने बयान पर सफाई भी दी थी। सिद्धू ने शनिवार को ट्वीट किया, तथ्यों को तोड़ने-मरोड़ने से पहले उन्हें सही करें, राहुल गांधी जी ने मुझे पाकिस्तान जाने के लिए कभी नहीं कहा। पूरी दुनिया जानती है कि मैं प्रधानमंत्री इमरान खान के निजी न्योते पर पाकिस्तान गया था। वहीं सिद्धू की पत्नी और बीजेपी की पूर्व विधायक नवजोत कौर ने रविवार को कहा कि उनके पति का दिल साफ है और उनकी टिप्पणी को तोड़-मरोड़ कर पेश किया जा रहा है।

बयान के बाद उठी इस्तीफे की मांग 

सिद्धू द्वारा मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह पर कसे गए तंज के बाद राज्य सरकार के कई और मंत्रियों ने रविवार को सिद्धू की निंदा की और कहा कि वह अमरिंदर से माफी मांगें और बड़ों का सम्मान करना सीखें। शनिवार को तीन मंत्रियों, ग्रामीण विकास एवं पंचायत मंत्री तृप्त राजिंदर सिंह बाजवा, राजस्व एवं पुनर्वास मंत्री सुखविंदर सिंह सरकारिया और खेल मंत्री राणा गुरमीत सिंह सोढ़ी ने राज्य कैबिनेट से सिद्धू का इस्तीफा मांगा था।

रविवार को राज्य की महिला एवं बाल विकास मंत्री अरुणा चौधरी ने कहा कि सिद्धू की टिप्पणी दुर्भाग्यपूर्ण और अवांछित थी। उन्होंने कहा, नवजोत सिंह सिद्धू ने कैप्टन अमरिंदर सिंह के बारे में जो कुछ कहा, वह दुर्भाग्यपूर्ण है। उन्हें ऐसी चीजें नहीं कहनी चाहिए थी। अमरिंदर सिंह थलसेना में थे और 1965 के भारत-पाक युद्ध के दौरान उन्होंने कैप्टन के तौर पर सेवाएं दी थीं।

चौधरी ने कहा, कैप्टन अमरिंदर सिंह हमारे निर्विवाद नेता हैं। वह राज्य में पार्टी के कैप्टन हैं। पिछले विधानसभा चुनावों में वह मुख्यमंत्री उम्मीदवार थे और उनके नेतृत्व में पार्टी प्रचंड बहुमत से सत्ता में लौटी। इसी तरह, राहुल गांधी पूरी कांग्रेस के कैप्टन हैं। इस तथ्य पर कोई विवाद नहीं है। लेकिन कैप्टन साहिब के बारे में सिद्धू ने जो कुछ कहा, वह दुर्भाग्यपूर्ण है।

वन मंत्री साधु सिंह धरमसोत ने भी रविवार को मांग की कि सिद्धू मुख्यमंत्री से माफी मांगें। उन्होंने सिद्धू को याद दिलाया कि वह कोई कॉमेडी शो नहीं चला रहे। सिद्धू एक लोकप्रिय टीवी कॉमेडी शो का हिस्सा रहे हैं। धरमसोत ने कहा, ऐसा लगता है कि सिद्धू साहिब भूल गए हैं कि वह मंत्री हैं। उन्हें समझना चाहिए कि वह यहां कोई कॉमेडी शो नहीं कर रहे। उन्हें बड़ों का सम्मान करना सीखना चाहिए और मुख्यमंत्री से माफी मांगनी चाहिए।

loading...
loading...

Check Also

10 रुपये की साड़ी मिलने से मॉल में भगदड़, लोगों का सामान चोरी

दुनिया में कहीं भी सेल लगी हो और भीड़ न हो, ऐसा कभी हो सकता ...