नतीजों से पहले 100 दिन का एजेंडा करें तैयार करने के निर्देश

2019 लोकसभा चुनाव के नतीजे 23 मई को घोषित होंगे लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भरोसा है कि उनकी सरकार दोबारा बनेगी। पीएम मोदी ने प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ), नीति आयोग और प्रिंसिपल साइंटिफिक एडवाइजर से पहले नई सरकार के 100 दिन का एजेंडा तैयार करने के लिए कह चुके हैं। इस एजेंडे में अगले पांच वर्षों में जीडीपी वृद्धि को दोहरे अंकों पर लाने का लक्ष्य होगा।

मोदी सरकार के तीन शीर्ष अधिकारियों के अनुसार, व्यस्त चुनाव प्रचार के बीच पीएम मोदी ने अपने कार्यालय, नीति आयोग के वाइस चेयरमैन और प्रिंसिपल साइंटिफिक एडवाइजर (PSA) प्रो के विजयराघवन को स्वच्छ भारत अभियान के साथ व्यापक आर्थिक और नौकरशाही सुधारों का एक एजेंडा तैयार करने का काम सौंपा है। 

हिन्दुस्तान टाइम्स को तीन अधिकारियों ने नाम ना छापने की शर्त पर बताया है कि पीएम मोदी के 100 दिन के एजेंडे में तेल व गैस, खनिज, बुनियादी ढांचे और शिक्षा को लाल फीताशाही से मुक्त करने पर ध्यान केंद्रित करने को कहा है ताकि 2047 तक भारत को एक विकसित देश बनने की नींव रखी जा सके। अधिकारियों को मानना ​​है कि मुख्य क्षेत्रों में लालफीताशाही को दूर करके हम जीडीपी वृद्धि को 2.5% तक आसानी से बढ़ा सकते हैं। 

जब पूरे देश का ध्यान लोकसभा चुनावों पर केंद्रित है। वहीं पीएमओ, नीति आयोग और पीएसए के ऑफिस बैठकें करके लोगों से जुड़े मुद्दों का एजेंडा तैयार कर रहा है। इतना ही नहीं ग्रामीण इलाकों में स्वास्थ्य मिशान को बढ़ाने पर विचार कर रहा है ताकि लोगों को इसका लाभ मिल सके। 

100 दिनों एजेंडे में उच्च विकास क्षेत्रों, लरर्निंग आउटकम सेक्टर और रोजगार सृजन क्षेत्रों पर केंद्रित है। उच्च विकास क्षेत्रों में खनन, कोयला, बिजली और ऊर्जा शामिल हैं। लरर्निंग आउटकम सेक्टर में शिक्षा और प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र हैं। रोजगार सृजन क्षेत्रों में पर्यटन और एमएसएमई शामिल हैं। 

loading...

Check Also

अंपायर पर भड़क उठे जडेजा-रायुडू : नोबॉल विवाद

इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 12वें सीजन में अंपायरों को लेकर कई विवाद हो चुके ...