Breaking News

चुनाव पूर्व भाजपा की जमीन तैयार करेगा संघ

20_12_2016-ahm19अहमदाबाद [ शत्रुघ्न शर्मा ] । राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने गुजरात में विधानसभा चुनाव से पहले संगठन को चाक चौबंद करने की तैयारी शुरू कर दी है। सरसंघ चालक मोहन भागवत तीन दिन से गुजरात में हैं तथा प्रदेश भाजपा के कई आला नेताओं ने भी उनसे मुलाकात की है।

यान चला रहे हैं लेकिन अब राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ ने भी संगठन के जरिए हिंदूवादी राजनीति में दम भरने का काम शुरू कर दिया है। नोटबंदी के बाद आरएसएस का गुजरात में तीन दिन का शिविर हुआ जिसमें संगठन को मजबूत बनाने, देश के अन्यत राज्यों में संघ कार्यकर्ताओं पर हो रहे हमलों से अवगत कराने के साथ संघ की शाखाओं को बढाने पर जोर दिया। सरसंघ चालक मोहन भागवत खुद तीन दिन से गुजरात में हैं तथा वडोदरा में संघ कार्यकर्ता से लेकर भाजपा के आला नेताओं से मुलाकात कर रहे हैं। शनिवार को पहले दिन संघ के शिविर में भागवत ने प्रचारकों से मुलाकात की, रविवार को गुजरात, महाराष्ट्र गोवा आदि पश्चिम क्षेत्र के प्रांत अधिकारियों से मिलकर संघ की गतिविधियों व रणनीति पर चिंतन किया।

आरएसएस के मीडिया प्रमुख विजय ठाकर के अनुसार संघ इस तरह की नियमित बैठकें करता है जिसमें विविध मुददों पर चिंतन के साथ संगठन विस्तार पर चर्चा होती है। गुजरात में अगले वर्ष होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले संघ की इस बैठक को काफी अहम माना जा रहा है। नोटबंदी, पाटीदार आंदोलन व ऊना में दलितों की पिटाई के चलते देहाती इलाकों में भाजपा के प्रति लोगों में नाराजगी बढी है। हालांकि ऊना कांड के बाद संघ ने गुजरात की सभी तहसीलों में सदभाव सम्मेलन कर दलितों को मनाने में कोई कसर नहीं छोडी लेकिन अब चुनाव से पहले कांग्रेस कोई भी राजनीतिक लाभ नहीं उठा पाये इसके लिये जनता को समझाने व पाटीदारों को मनाने का जिम्मा भी संघ कार्यकर्ताओं के कंधों पर आ गई है।

अहमदाबाद। गुजरात भाजपा ने चुनावी रणनीति को ध्यान में रखते हुए चिंतन शिविर का आयोजन किया है। प्रदेश अध्यीक्ष जीतूभाई वाघाणी की अगवाई में प्रदेश भाजपा के दिग्गरज नेताओं ने इसमें शिरकत की।
प्रदेश भाजपा की कमान संभालने के बाद जीतूभाई वाघाणी के नेतृत्वर में यह पहली रणनीतिक बैठक है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपने पिछले दौरे में भाजपा नेताओं को चुनावी जीत के पाठ पढाऐ थे, अब प्रदेश भाजपा नेताओं के द्वारा इस पर अमल की बारी है। भाजपा पिछले एक साल से संगठनात्मदक कार्यवाही कर रही है लेकिन अब चुनाव से ठीक एक साल पहले भाजपा पार्टी नेताओं को जिम्मेदारी सौंपने के साथ केन्द्र व राज्यप सरकार की उपलब्धितयों को जन जन तक पहुंचाने के साथ नोटबंदी, मौसम की मार से परेशान किसान व लोगों को समझाने का काम भी कार्यकर्ता करेंगे।

 

loading...
loading...