Breaking News

इस साल खादी के कैलेंडर में महात्‍मा गांधी की जगह पीएम मोदी नजर आएंगे

एक बेहद आश्‍चर्यजनक घटना में खादी विलेज इंडस्‍ट्रीज कमिशन(केवीआईसी) के सालाना कैलेंडर और टेबल डायरी में इस साल महात्‍मा गांधी की जगह पीएम मोदी नजर आएंगे।

अभी-अभी: औरंगाबाद में CISF जवान ने साथियों पर की फायरिंगइस साल खादी के कैलेंडर में महात्‍मा गांधी की जगह पीएम मोदी नजर आएंगे ईकोनॉमिक टाइम्‍स द्वारा सूत्रों के हवाले से दी गई खबर के अनुसार नया कैलेंडर और डायरी देखकर गई कर्मचारी और अधिकारी भी चौंक गए थे क्‍योंकि इसके कवर पेज पर हर बार की तरह चरखे पर सूत कातते हुए महात्‍मा गांधी की जगह उन्‍हीं की स्‍टाइल में पीएम मोदी की तस्‍वीर नजर आई।

बापू की उनके पारंपरिक कपड़ों में चरखे पर सूत कातते हुए तस्‍वीर सालों से आम लोगों के दिमाग में छपी हुई है लेकिन पीएम मोदी उनकी जगह खादी का कुर्ता-पजामा और मोदी जैकेट पहने चरखे पर सूत काटते दिखाई देंगे। यहां तक की उनका चरखा भी बापू के मुकाबले मॉडर्न है।

इससे आहत उद्योग के कर्मचारियों ने गुरुवार को विले पार्ले स्थित दफ्तर के बाहर मुंह पर काली पट्टी बांधे इसका विरोध दर्ज करवाया वहीं संपर्क करने पर खादी उद्योग के चेयरमैन विनय कुमार सक्‍सेना ने कहा कि यह कोई असमान्‍य बात नहीं है और पहले भी हो चुका है।

सक्‍सेना ने कहा कि पूरा खादी उद्योग गांधी जी की विचारधारा पर बना है। वो खादी उद्योग की आत्‍मा हैं ऐसे में उन्‍हें नजरअंदाज करने का कोई सवाल ही नहीं है। उन्‍होंने आगे कहा कि मोदी लंबे समय से खादी पहनते आ रहे हैं और अपनी ही स्‍टाइल बनाते हुए इसे जनता और विदेशी मेहमानों में भी इसे प्रचलित भी किया है।

सक्‍सेना ने कहा कि वास्‍तव में वो खादी के सबसे बड़े ब्रांड एंबेसेडर हैं और उनका विजन खादी उद्योग के मेक इन इंडिया के माध्‍यम से गांवों को स्‍वपूर्ण बनाने, स्किल डेवलपमेंट के माध्‍यम से रोजगार पैदा करने, खादी बनाने में नई तकनीक लाने और मर्केटिंग इनोवेशन के विजन से मेल खाता है। पीएम यूथ आइकॉन हैं।

वहीं दूसरी तरफ पहचान छिपाने की शर्त पर खादी उद्योग के एक अधिकारी ने कहा कि सरकार द्वारा महात्‍मा गांधी के आयडिया और विचारों को इस तरह सिस्‍टमेटिक तरीके से बाहर किए जाने से हमें दुख हुआ है। पिछले साल कैलेंडर में पीएम मोदी की तस्‍वीर जोड़कर इस तरह की पहली कोशिश की गई थी। यहां तक की 2016 में केवीआईसी के स्‍टाफ यूनियन ने इस मुद्दे को मैनेजमेंट के सामने भी उठाया था और समय इस बात का आश्‍वासन दिया गया था कि भविष्‍य में ऐसा नहीं होगा।

एक कर्मचारी ने कहा कि पिछले साल के मुकाबले इस बार तो पूरी तरह से बापू को हटा दिया। गांधी जी की तस्‍वीर और उनकी शिक्षा जिन्‍होंने गरीब के लिए खादी बनाई और इसे स्‍वदेशी होने का तमगा दिया उन्‍हें इस बार कैलेंडर और डायरी से इस बार पूरी तरह हटा दिया गया है।

loading...
loading...