Breaking News

घरवालों को आती थी शर्म इस लड़की पर, जिसने खड़ी कर दी 270 करोड़ की…

महिलाओं के लिए बाजार में कई बार दुकान से अंडरगार्मेंट खरीदना काफी मुशकिल होता है। यदि दुकानदार पुरुष हो तो ये और कठिन हो जाता है। इसी समस्या को समझते हुए रिचा कर ने शुरुआत की ऑनलाइन साइट जिवामे की। हालांकि रिचा ने जब अपने इस आइडिया को घर में शेयर किया तो, सबसे पहले उनकी मां ने ही विरोध किया। मां ने कहा- अपनी दोस्तों को कैसे बताउंगी कि बेटी ब्रा-पैंटी बेचती है।

रिचा का जन्म जमशेदपुर के एक मिडिल क्लास परिवार में हुआ था। उन्होंने बिट्स-पिलानी से पढ़ाई की। रिचा के मुताबिक उनकी मां ने कहा कि मैं अपनी दोस्तों को कैसे बताउंगी कि मेरी बेटी ब्रा-पैंटी बेचती है। वहीं उनके पिता को तो समझ ही नहीं आया कि वो कौन सा काम करना चाहती हैं। इसके अलावा लोग उनके बिजनेस पर हंसते थे।

बड़ी खुशखबरी: गरीबों के लिए धड़का मोदी का दिल, हर एक गरीब को बाटेंगे घर

छोड़नी पड़ नौकरी, शुरुआत में आई काफी मुशकिलें

रिचा ने 2011 में जिवामे की शुरुआत 35 लाख रुपए में की। इसे उन्होंने अपने दोस्तों और परिवार वालों से जुटाया। इसमें उनकी अपनी सेविंग्स भी शामिल थी। रिचा को बिजनेस की शुरुआत करने में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा था।
उन्होंने अपनी नौकरी तक छोड़नी पड़ी।  रिचा बतातीं हैं कि जब लैंडलॉर्ड से जगह के लिए बात कर रही थीं तो वे अपने बिजनेस के बारे में बताने से पहले चुप हो गईं और फिर बोलीं कि वे ऑनलाइन कपड़े बेच रही हैं। इसके बाद उन्हें ऑफिस के लिए स्पेस मिला। इसी तरह उन्हें पेमेंट गेटवे हासिल करने के लिए काफी परेशानी हुई।
रिचा की कंपनी की वेल्यू आज 270 करोड़ रुपए है। उनका रेवेन्यू सालाना आधार पर 300 फीसदी की दर से बढ़ रहा है। जिवामे के ऑनलाइन लॉन्जरी स्टोर में फिलहाल 5 हजार लॉन्जरी स्टाइल, 50 ब्रांड और 100 साइज हैं। कंपनी ट्राई एट होम, फिट कंसल्टेंट, विशेष पैकिंग और बेंगलुरु में फिटिंग लाउंज जैसी ऑफरिंग्स दे रही है।  कंपनी इस समय भारत में सभी पिन कोड पर डिलिवरी करती है। इस सफलता के लिए रिचा को साल 2014 में फॉर्च्यून इंडिया की ‘अंडर 40’ लिस्ट में शमिल किया गया।