आज है हिंदू संवतसर की पहली एकादशी

हिंदू पंचांग के अनुसार चैत्र मास से नव वर्ष का प्रारंभ होता है। चैत्र की शुक्लपक्ष में पड़ने वाली एकादशी साल की पहली एकादशी होती है। इसे कामदा एकादशी या फलदा एकादशी के नाम से जाना जाता है, जो आज सोमवार को है। रामनवमी के एक दिन बाद मनाई जाने वाली इस एकादशी को समस्त सांसारिक कामनाओं की पूर्ति के लिए बेहद खास माना जाता है। 

इस व्रत में अपने भगवार श्री हरि विष्णु की आराधना करने का विधान है। कहते हैं इस व्रत को करने से प्रेत योनि से मुक्ति मिल जाती है। इस व्रत की कथा सिर्फ सुन लेने से वाजपेय यज्ञ का फल प्राप्त होता है। जानिए क्या है इस व्रत की कथा और विधान

कामदा एकादशी की कथा
कामदा एकादशी की कथा प्राचीन काल में भोगीपुर नामक नगर से शुरू होती है। वहां पुण्डरीक नामक राजा राज्य करते थे। इस नगर में अनेक अप्सरा, किन्नर तथा गंधर्व वास करते थे। उनमें से ललिता और ललित में अत्यंत स्नेह था। एक दिन गंधर्व ललित दरबार में गाना गा रहा था। उसे पत्नी ललिता की याद आ गई। इससे उसका स्वर, लय एवं ताल बिगड़ने लगे। इसे कर्कट नामक नाग ने जान लिया और यह बात राजा को बता दी। राजा ने क्रोध में आकर ललित को राक्षस होने का श्राप दे दिया। 

ये है व्रत विधि 
कामदा एकादशी के दिन भगवान विष्णु की पूजा की जाती है। कामदा एकादशी के दिन स्नान करके भगवान विष्णु का फल, फूल, दूध, पंचामृत, तिल आदि से पूजन करें। रात में सोना में सोने के बजाय भजन- कीर्तन करें और अगले दिन पूजन कर ब्राह्मण को भोजन कराएं और दक्षिणा दें।

loading...

Check Also

अंपायर पर भड़क उठे जडेजा-रायुडू : नोबॉल विवाद

इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 12वें सीजन में अंपायरों को लेकर कई विवाद हो चुके ...