आखिर कबतक धार्मिक उन्माद फ़ैलाने वाले गाने “मस्जिद में ठोकावत रहलू” समाज को लड़ायेंगे

बीजेपी सरकार में मुसलमान, उनके धर्म और धार्मिक प्रतीकों के खिलाफ एक विरोध करने की मुहीम चालू कर दी गयी है ।  मुसलमानों को गाली देने और बदनाम करने का ठेका फिल्मी और कैसेट की दुनियां ने संभाल रखा है। “मस्जिद में हमसे ठोकावट रहलू” इस श्रृंखला की ताज़ा कड़ी है। इससे पहले भी इस प्रकार के गाने र्मोट में उतारे जा चुके हैं। इसे लेकर मुस्लिम समाज में बहुत आक्रोश है। लोगों ने इस गाने पर पाबंदी लगााने की मांग की है।

बता दें कि हाल में मार्केट में एक ताज़ा आडियो/ वीडियो कैसेट आया है।  गाने के बोल है की ” याद करा रतिया तू आवत रहलू, महजीद में हमसे ठोकावट रह्लू।” इस गाने ने मुस्लिम समाज को बेचैन कर दिया है। गाने को स्वर दिया है गनेश सिंह ने। यह आडियो कैसेट प्यारे फिलम के बैनर तले रिकार्ड किया गया है।  इस गाने का साफ अर्थ है कि नायिका मस्जिद में नायक से रात में सम्भोग करती है।

मुसलमानों की नजर में ये बहुत आपत्तिजनक और दुखदाई है करतूत है।यह कोई पहला वाकया नहीं हैं, जब इस प्रकार के गाने के माध्यम से किसी धर्म की आस्था पर चोट की गई हो।  मोदी सरकार बनने के बाद ऐसा ही एक और गीत मार्केट में आया था, जिसके बोल थे “लहंगा में घुस के नमाज़ पढ़े ला।“ आज पूरे प्रदेश में इसी तरह के गाने मार्केट में बज रहे है, मगर सरकार इसके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं कर रही है, जिससे इन मुस्लिम विरोधी तत्वों के हौसले काफी बुलंद हैं।

loading...

Check Also

अंपायर पर भड़क उठे जडेजा-रायुडू : नोबॉल विवाद

इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 12वें सीजन में अंपायरों को लेकर कई विवाद हो चुके ...