Breaking News

अगर नहीं मिली साइकिल तो मोटरसाइकिल पर चुनाव लड़ेंगे, अखिलेश यादव

समाजवादी पार्टी में मचे घमासान को खत्म करने की कोशिशों के बीच पार्टी सुप्रीमो मुलायम सिंह और मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की नज़र चुनाव आयोग पर है। चुनाव आयोग शुक्रवार को समाजवादी पार्टी के चुनाव चिन्ह साइकिल पर फैसला सुनाएगा।

हाईकोर्ट ने सरकार से पूछा- रामदेव को किस नीति के तहत दी गई सस्ते में जमीनअगर नहीं मिली साइकिल तो मोटरसाइकिल पर चुनाव लड़ेंगे, अखिलेश यादव
इस बीच, मुलायम सिंह यादव और शिवपाल यादव बुधवार शाम दिल्ली पहुंच गए हैं। पार्टी और चुनाव चिन्ह पर दावेदारी को लेकर चुनाव आयोग दोनों पक्षों की बात सुन चुका है। ऐसे में ज्यादा संभावना यही है कि आयोग साइकिल के निशान को फ्रीज कर दे। मतलब किसी भी पक्ष को साइकिल नहीं मिलेगी। दोनों को दूसरे चुनाव चिन्ह पर चुनाव लड़ना होगा।

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के करीबी यह संकेत दे चुके हैं कि साइकिल नहीं मिलने की सूरत में वे चुनाव चिन्ह के तौर पर मोटरसाइकिल की मांग कर सकते हैं। मोटरसाइकिल तेज विकास के प्रतीक के तौर पर प्रचारित की जा सकती है।

वहीं, वह साइकिल से नहीं मेल खाती है।सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव गुट ऐसी स्थिति में हल जोतता किसान के निशान पर चुनाव लड़ सकते हैं। लोकदल के इस चुनाव चिन्ह से मुलायम सिंह का पुराना नाता है। वह खुद इस निशान पर चुनाव लड़ चुके हैं। इसके लिए सपा सांसद अमर सिंह ने लोकदल के अध्यक्ष सुनील सिंह से शुरुआती बातचीत भी की है।